Sunday, April 19, 2009


10 comments:

  1. संध्या इसके नीचे एक टेग लाइन डाल दें कि इस पेज को पूया देखने के लिए इस पर क्लिक करें , मुझे भी सोचना पड़ा कैसे देखूं ?

    ReplyDelete
  2. हुज़ूर आपका भी एहतिराम करता चलूं ............
    इधर से गुज़रा था, सोचा, सलाम करता चलूं ऽऽऽऽऽऽऽऽ

    ReplyDelete
  3. Nice Nice
    Very Nice,
    Election Is
    Just a Dice,
    We do not know,
    What will come,
    What Bhaarat
    Will Become....

    ReplyDelete
  4. अच्‍छी लगी आपके ब्‍लाग की शैली

    ReplyDelete
  5. sanshya ji

    pahli baar aaya hoon aapke blog par , bahut accha laga .. kuch alga si variety liye hue hai .. meri dil se badhai sweekar karen ..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. अच्छा लिखा है आपने और सत्य भी , शानदार लेखन के लिए धन्यवाद ।

    मयूर दुबे
    अपनी अपनी डगर

    ReplyDelete
  7. आप का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।आप मेरे ब्लाग
    पर आएं,आप को यकीनन अच्छा लगेगा।

    ReplyDelete
  8. ek acchi koshish.
    aapka blog accha laga ..zuda-zuda sa.
    sabse alag
    bandhaii hoo

    ReplyDelete